तुलसी के दूध का सेवन होता है बहुत लाभदायक और होते है कुछ अधिक फायदे ,जानें

 तुलसी का पौधा एक ऐसा पौधा है, जो लगभग हर घर में आसानी से मिल जाता है। क्योंकि तुलसी के पौधे को धार्मिक मान्यताओं से जोड़ा गया है। हिंदू शास्त्रों के अनुसार यह कहा जाता है कि, जिस घर में तुलसी का पौधा होता है उस घर में बैक्टीरिया और जीवाणु प्रवेश नहीं कर सकते। और साथ ही यह उस घर का वातावरण भी शुद्ध रखता है। दोस्तों क्या आप जानते हैं कि तुलसी का पौधा धार्मिक मान्यताओं के साथ-साथ औषधीय गुणों से भी भरपूर होता है। तुलसी के पत्ते का इस्तेमाल करने से कई रोग दूर होते हैं। 



तुलसी के पत्ते अगर चाय में डालकर, तुलसी की चाय पि जाएं तो उससे हमारी सर्दी, जुखाम, खांसी जैसी बीमारियां ठीक हो जाती हैं, साथ ही तुलसी के पत्ते और भी कई बड़ी बड़ी बीमारियों को सही करने में कारगर होते हैं। तो चलिए जानते हैं कुछ और ऐसे रोगो के बारे में जो तुलसी के पत्तों का सेवन दूध के साथ करने से ठीक होती है। 

  • अगर दूध को तुलसी के पत्तों के साथ उबालकर पिया जाए तो यह हमें तनाव मुक्त करने में काफी फायदेमंद साबित होता है। तुलसी के दूध पीने से हमारे शरीर के नर्वस सिस्टम को आराम मिलता है और साथ ही तुलसी का दूध पीने से हमारे स्ट्रेस हार्मोन नियंत्रित रहते हैं। जिसकी वजह से डिप्रेशन जैसी बीमारियां हमसे दूर रहती हैं।
  • कैंसर :- तुलसी का दूध पीने से हम कैंसर जैसे रोगों को कुछ हद तक कम सकते हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि तुलसी में रेडियोप्रोटेक्टिव गुण पाए जाते हैं, जो शरीर में टयूमर सेल्स को पनपने से रोकते हैं। इसके साथ ही तुलसी के पत्तों में एंटीकैंसर गुण भी पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर में कैंसर बनने वाले सेल्स को पनपने नहीं देते।
  • पथरी :- अगर खाली पेट नियमित रूप से तुलसी के दूध का सेवन किया जाए तो इससे किडनी में पथरी जैसी समस्या भी दूर हो जाती है। क्योंकि तुलसी में ऐसे तत्व मौजूद होते हैं जिनकी वजह से हमारे शरीर में यूरिक एसिड का बनना कम होता है। हमारे शरीर में यूरिक एसिड के कम बनने से पथरी धीरे-धीरे गल कर अपने आप ही बाहर आ जाती है।
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता :- नियमित रूप से तुलसी के दूध का सेवन किया जाए तो इससे हमारा इम्यून सिस्टम मजबूत होता है, क्योंकि तुलसी के पत्तों में एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण पाए जाते हैं। जिसकी वजह से हमारा शरीर सर्दी, खांसी, जुखाम जैसी छोटी-मोटी बीमारियों से लड़ने के लिए सक्षम हो जाता है।
  • दमा रोग :- अगर आपको सांस लेने से संबंधित कोई भी समस्या हो तो आप ऐसे में तुलसी का दूध का सेवन कर सकते हैं, जो दमा रोग जैसी समस्याओं के लिए काफी लाभदायक होता है।

तुलसी के दूध का कैसे करें सेवन

तुलसी का दूध का सेवन करने के लिए आपको सबसे पहले एक बर्तन में 1 से 1.5 गिलास दूध में 10 से 12 तुलसी के पत्ते डालकर उसे अच्छे से उबालना है। आप इसे तब तक उबलते रहें जब तक दूध उबल कर एक गिलास ना हो जाए। उसके बाद दूध को आप थोड़ी देर ठंडा होने के लिए रख दीजिए। जब दूध ठंडा होकर गुनगुना हो जाए तब आप इसका सेवन कर सकते हैं। अगर आप तुलसी के दूध का नियमित रूप से रोज ऐसे ही सेवन करेंगे तो यह आपको इन सभी बीमारियों से दूर रखने में काफी मददगार साबित होगा।

Post a Comment

0 Comments