एक ऐसी जगह जहां झरने में गिरता है खून देखकर उड़ जाएंगे होश

 दुनिया भर में कई जगह हैं, जो रहस्यों से भरी हैं। वैज्ञानिक आज भी इनमें से कई जगहों के रहस्यों को नहीं सुलझा पाए हैं। ऐसा ही एक रहस्य है अंटार्कटिका का टेलर ग्लेशियर। इस ग्लेशियर से बहते झरने से खून की तरह लाल पानी बहता है। हालाँकि, वैज्ञानिकों ने इस पर कई शोध किए, लेकिन कोई निश्चित परिणाम नहीं दे सके। इस झरने के पानी का रंग सदियों से लाल है। उस स्थान का तापमान जहां जलप्रपात हमेशा माइनस में होता है, लेकिन झरना अभी भी बहता है। 1911 में पहली बार ऑस्ट्रेलिया के भूविज्ञानी ग्रिफिथ टेलर ने यहां आने का साहस किया और उन्होंने देखा कि यहां एक खूनी पानी गिर रहा है। उन्होंने पहले सोचा था 

कि यह लाल रंग सूक्ष्म लाल शैवाल के कारण था, लेकिन 2003 में, टेलर का शैवाल सिद्धांत गलत साबित हुआ था। नए शोध से पता चला था कि इस पानी में आयरन ऑक्साइड की अधिकता है। इस वजह से यहां पानी का रंग लाल हो जाता है। कुछ ने इसे सच भी माना। लेकिन कुछ शोधकर्ताओं को भी इस शोध पर विश्वास नहीं हुआ, इसलिए उन्होंने दो कदम आगे बढ़कर नए शोध किए। कोलोराडो कॉलेज और अलास्का विश्वविद्यालय ने अपने शोध में पाया कि पानी वास्तव में एक बहुत विशालकाय तालाब से गिर रहा है। खास बात यह है कि यह तालाब पिछले कई लाख सालों से बर्फ के नीचे दबा था। जैसे ही पानी जमना शुरू होता है, यह गर्मी छोड़ता है। यह गर्मी चारों ओर जमी बर्फ को गर्म करती है। इस प्रक्रिया के कारण इस झरने से पानी लगातार बह रहा है। कुछ लोग यह भी मानते हैं कि एक आत्मा यहाँ रहती है। यह इस आत्मा के कारण है कि पानी का रंग लाल है। वैज्ञानिकों के अनुसार, यहां पानी के अंदर आयरन ऑक्साइड है, जो हवा के संपर्क में आने से पानी को लाल कर देता है। उनका अनुमान है कि इस स्थान पर बर्फ के नीचे लौह तत्व की अधिकता है, जो पानी को लाल रंग देता है। हालांकि, यह लाल झरना अभी भी एक रहस्य बना हुआ है।

Post a Comment

0 Comments