100 सालों में एक बार दिखने वाला जानवर इसके बारे में जानकर आपके उड़ जाएंगे होश

 अपने फिल्म जंगल बुक और मोगली की कहानियों के बारे में तो सुना ही होगा और उसमें आपने ब्लैक पैंथर को भी देखा होगा जो कि मोगली के बहुत करीब का दोस्त था। इसके अलावा अपने मार्वल स्टूडियो की मूवी ब्लैक पैंथर में भी आपने देखा होगा कि मुख्य किरदार में ब्लैक पैंथर है।

 लेकिन अगर कहानी और मूवीस को हटाकर हम देखे तो ब्लैक पैंथर यानी कि काला चीता तेंदुआ और चीते से मिलती-जुलती प्रजाति है। कई देशों में ब्लैक पैंथर को लुप्त हो चुकी प्रजाति माना जाता है तो कई देशों में बहुत वक्त के बाद कभी कभी उसकी तस्वीरें दिख जाती है। ब्लैक पैंथर बहुत ही कम देखी जाने वाली प्रजाति है और इसी वजह से उसके बारे में लोगों को ज्यादा जानकारी नहीं है ब्लैक पैंथर एक ऐसी प्रजाति है जो रात के वक्त में शिकार करती है ब्लैक पैंथर शुभ रात के वक्त ही शिकार करता है और इसमें उसका काला रंग उसकी बहुत मदद करता है।

ब्लैक पैंथर एक बड़ी बिल्ली है जिसे बहुत मजबूत और लचीला होता है। इनका शरीर काला और पूंछ लंबी होती है इनके आंखें पीली या फिर नीली होती है। इनके शरीर की लंबाई देर से 2 मीटर तक हो सकती है और इनकी ऊंचाई लगभग 72 सेंटीमीटर होती है और वजन 60 से 70 किलो तक हो सकता है। इनमें गंध सूंघने की की बहुत ही अच्छी क्षमता होती है और इसी वजह से यह अपने शिकार को बहुत ही आसानी से ढूंढ लेते हैं और यह 60 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकते हैं। वैसे तो ब्लैक पैंथर 12 साल तक जिंदा रहता है लेकिन कैद में रहने वाले ब्लैक पैंथर 20 साल तक जिंदा रह सकते हैं और कैद में रहने पर ब्लैक पैंथर बहुत ही अग्रेसिव हो जाते हैं। यह बिल्लियों की एक ऐसी प्रजाति है जो वह हमेशा दूसरे पशुओं से दूर रहना ही पसंद करती है और यह भारत में भी पाए जाते हैं।

अगर हम अभी हमारे आसपास देखे तो हम लेपर्ड, चीता और जैगुआर तीनों को हम तेंदुआ ही कहते हैं। अफ्रीका के केन्या में 100 साल के बाद ब्लैक पैंथर देखा गया था इससे पहले लोग यही मानते थे कि ब्लैक पैंथर अब लुप्त हो चुका है अगर हम इंडिया के बात करें तो साल 1993 में उड़ीसा में ब्लैक पैंथर देखने को मिला था और अभी हाल 2018 में छत्तीसगढ़ में ब्लैक पैंथर देखने को मिला था।

Post a Comment

0 Comments