About Me

header ads

एक पेड़ पर लगते हैं 40 तरह के फल देखकर आपको नही होगा यकीन

 अद्भुत पौधा जिस पर लगते हैं 40 तरह के फल यहां नीचे चित्र में दिखाए जा रहे पौधे को गौर से देखिए यही है वह पौधा तो क्या आप जानना नहीं चाहेंगे ऐसे पौधे के बारे में जिस पर लगते हैं 40 तरह के अलग अलग फल तो आइए जानते हैं इसके बारे में विस्तार से। हमारा विश्व रहस्यों से भरा पड़ा है चारों तरफ प्रकृति ने एक से एक अद्भुत रहस्यों का निर्माण किया है परंतु मनुष्य ने अपनी बौद्धिक क्षमता के आधार पर प्रकृति को अपने फायदे के लिए नुकसान के गर्त में धकेल दिया है परंतु कुछ आविष्कारों ने मानव जीवन को 16 बनाया है उन्हीं में से एक आविष्कार है यह पौधा जिसको उगाया नहीं गया बल्कि इस पौधे को तैयार किया गया है और वह भी कोई छोटी मोटी रकम नहीं बल्कि 19 लाख रुपए की एक बड़ी रकम से इस पौधे को तैयार किया गया है जिस पर 40 तरह के अलग-अलग तरह के फल लगते हैं आज हम इसी के बारे में आपको बता रहे हैं आइए जानते हैं विस्तार से न्यूयॉर्क अमेरिका में विजुअल आर्ट्स के प्रोफेसर सेम वें अकेन ने ग्राफ्टिंग तकनीक से एक ऐसा पेड़ तैयार किया है जिस पर 40 तरह के फल लगते हैं। 



प्रोफेसर वन द्वारा तैयार यह पौधा ट्री ऑफ 40 नाम से प्रसिद्ध है। लगभग ₹1900000 की कीमत वाले इस अनोखे पेड़ पर बेर खुबानी चेरी बादाम नेक्टराइन जैसे फल लगते हैं। अमेरिका की वाशिंगटन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने मनी प्लांट की प्रजाति के एक प्रकार के पौधे पोठोस आईवीके चीन में परिवर्तन कर उसमें कैंसर फैलाने वाले अति सूक्ष्म प्रदूषक कणों को अवशोषित करने की क्षमता विकसित कर दी है जिसके फल स्वरूप घरों में लगाए जाने वाले मनी प्लांट सरीखे पौधे ऑक्सीजन देने के साथ-साथ कैंसर जैसी गंभीर बीमारी से बचाव में कारगर सिद्ध होंगे। शोधकर्ताओं के अनुसार वर्तमान में घरों में प्रदूषण कणों से बचाव के लिए कई प्रकार के फिल्टर इस्तेमाल में लाए जाते हैं लेकिन वायु में कुछ ऐसे अति सूक्ष्म कण है जो इन फिल्टर ओं के भी पार हो जाते हैं क्लोरोफॉर्म और बेंजीन केकन इसी प्रकार के हैं इन दोनों का संबंध कैंसर से पाया जा चुका है इसलिए वैज्ञानिकों ने पौधे में चीन में परिवर्तन कर इस प्रोटीन के उपयोग का रास्ता निकाला।वैज्ञानिक और भी ऐसे प्रयोग निरंतर कर रहे हैं ताकि भविष्य में जेनेटिक बदलाव कर पौधों को और अधिक खतरनाक प्रदूषण कानों से निपटने के घर की हवा को शुद्ध करने में सक्षम बनाया जा सके।

Post a Comment

0 Comments