About Me

header ads

नींम के पत्ते कई रोगों में होते है लाभदायक ,जरूर जान ले आप

 सभी नीम के बारे में तो जानते ही हैं कि यह एक औषधीय से भरपूर वृक्ष है. गर्मियों में नीम के वृक्ष की छांव ठंडक तो देती ही है, साथ-साथ इस वृक्ष की छाल,पत्ती तथा फल सभी चीजें कई प्रकार से लाभदायक होती हैं. इस पेड़ के हर भाग को आयुर्वेद में औषधी के तौर पर प्रयोग किया जाता है. ये चर्म रोगों में लाभदायक होती है. इस कारण कई सौंदर्य प्रसाधनों में भी नीम का प्रयोग किया जाता है. ये संक्रमण को रोकने में भी समर्थ होती है. चर्म रोगों के साथ नीम के कई व भी फायदा हैं वही रसोई में कभी-कभी काम करते वक़्त हाथ जल जाता है, तो उस जले हुए जगह पर नीम की पत्तियों को पीस कर लगाने से ठंडक प्राप्त होती है. इसमें एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, 

जो चोट को बढ़ने नहीं देते तथा उसे शीघ्र भरने में सहायता करते हैं. साथ ही नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर उस पानी से नहाने से चर्म रोग, जैसे- फोड़े-फुंसी तथा फंगल इंफेक्शन में राहत प्राप्त होती है. फोड़े-फुंसी कि वजह से हुए घावों पर नीम के पत्ते पीसकर लगाने से घाव शीघ्र ही भरने लगते है. नीम के पत्तों का फेस पैक बनाकर लगाने से स्कीन के मुंहासे नष्ट होते हैं. पहले के वक़्त में आदमी नीम की लकड़ी से दातून करते थे. इससे दांत तथा मसूड़े स्ट्रांग बनते हैं. इसके उपयोग से दांतों में पायरिया की शिकायत भी नहीं होती है, जिससे मुंह की दुर्गंध में भी सुकून प्राप्त होता है. वही कान में दर्द होने पर नीम का ऑयल लाभदायक रहता है. यदि किसी का कान बहता है तो भी नीम का ऑइल उसके लिए असरकारक है, किन्तु अधिक परेशानी होने पर चिकित्सक को अवश्य दिखाएं. इसके साथ ही नीम बेहद ही असरकारक पौधा है.

Post a Comment

0 Comments