भारत के "काला अंब "नामक स्थान पर एक ऐसा पेड़ पाया जाता है जिस पेड़ को काटने पर खून निकलता और यह पेड़ आम का है इस पेड़ के बारे में एक अनोखी कहानी प्रचलित है कहा जाता है कि जब पानीपत का तीसरा युद्ध के दौरान इस पेड़ के नीचे लाखों सैनिक आराम किया करते थे लेकिन जब युद्ध हुआ तो यह भूमि खून से भर गई।


जिसका असर इस पेड़ के ऊपर भी पड़ा और इसके जड़ों ने खून को सोख लिया था। जिसके कारण पेड़ का रंग काला हो गया और तभी से इस पेड़ का नाम "काला अंबा" पड़ गया था
इस पेड़ के बारे में एक और दिलचस्प बात यह है की जब आप इस पेड़ के फल को काटेंगे तो उसका रंग लाल होगा जो अपने आप में अजीब है।कई वर्षों के बाद किसी व्यक्ति ने इस पेड़ को खरीद लिया और उसने इस पेड़ की लकड़ी से दरवाजा बनाया।
उस दरवाजे को आज के तारीख में म्यूजियम में रखा गया है।


आज की तारीख में यहां पर के स्मारक बनाया गया है और उसका नाम "काला अंबा" रखा गया है। जिसको देखने के लिए लाखों की संख्या में लोग यहां पर आते हैं। अगर आपको मौका मिले तो आपको भी वहां जाना चाहिए ताकि आप इस ऐतिहासिक जगह का आनंद उठा सकें।