About Me

header ads

अरमानों को उड़ने के लिए अवसर की तलाश होती है जानें इस बारे में

दबे अरमानों को उड़ने के लिए अवसर की तलाश होती है "
अरमान तो सभी के होते हैं किंतु वे सभी के पूरे नहीं होते हैं । कई बार व्यक्ति चाहे वे बच्चे हो, चाहे नवयुवक-नवयुवती हो चाहे विवाहित स्त्री - पुरुष हो या वृद्ध ही क्यो न हो , आपने देखा होगा कि सभी खुल कर जीना चाहते हैं, लेकिन सामाजिक बंधनों के कारण या घर परिवार के बंधनों के कारण वे अपने आप को मुक्त आकाश, खुले आकाश में उड़ने से वंचित रह जाते हैं और उनके अरमान मन मे हीं रह जाते हैं और उन्हें होती है और फिर उड़ने की तलाश, जब भी उन्हें अवसर मिलता है तो वे खुलकर जीते हैं । आपने देखा होगा कि शादी ब्याह के अवसर पर बच्चों को और स्त्रियों के ग्रुप को, बुजुर्गों को, सबको नाचते देखा होगा। यह सोच सकते है ऐसा ही अन्य अवसर भी होते हैं, 



जब बर्थडे पार्टी होती है ,शादी-ब्याह होते हैं ,या अन्य कोई उत्सव होते हैं, तो ऐसे में व्यक्ति अपने आप को खुलकर जीता है। अतः सभी के घर में बड़े लोगों को यह समझना चाहिए, कि घर के लोग उनकी भावनाएं क्या है ? और उनके किस प्रकार के अरमान हो सकते हैं, और उनके अरमानों को जीने के लिए, खुला करने के लिए होने के लिए ,उनके लिए ऐसे अवसर उपलब्ध कराने चाहिए , जिससे ना केवल खुशहाल वातावरण घर परिवार का बनेगा। लोगों में जीने की चाह जागृत होगी । एक दूसरे से प्रेम होगा और वे निस्वार्थ प्रेम कर एक दूसरे के लिए भी सोचेंगे और अपने जीवन में नीरसता नहीं लगेगी और उनके अरमान पूरे हो सकेगे। ऐसे में सब लोग एक दूसरे की मदद कर सकते हैं ।और अपने जीवन जीने का रास्ता तय कर सकते हैं। यह निर्णय आपका है ,कि केवल आप ही हैं जो अपने लोगों को समझ कर अपने घर परिवार के लोगों को अपने उनके अरमानों को पूरा करने का अवसर उपलब्ध करा सकते हैं। अपने आसपास के लोगों को यह सब दे सकते हैं। सामाजिक उत्सवों को करके इसके अतिरिक्त आप अपने रिश्तेदार और संबंधियों को भी ऐसे अवसर उपलब्ध करा सकते हैं ।और उनके अरमानों को पूरा कर सकते हैं अतः कह सकते हैं अरमान तो सबके होते हैं किंतु उन्हें उड़ने के लिए अवसर की तलाश होती है ।और अवसर आपके हाथों में जब चाहे जब आप उसे उपलब्ध कर सकते हैं

Post a Comment

0 Comments