tik tok के बैन से नोट बन्दी जैसी समस्या हो गई देश में फिल्मी दुनिया भी हो गई नाखुश


चीनी ऐप टिक टॉक पर बैन को लेकर पश्चिम बंगाल के बशीरहाट से सांसद और फिल्म एक्ट्रेस नुसरत जहां नाखुश है। उन्होंने इसके प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि इस ऐप को जल्दबाजी में बंद किया गया और फैसला लेने से पहले सोच विचार नहीं किया गया। उन्होंने इसकी तुलना नोटबंदी से की कोलकाता में मीडिया ने नुसरत से टिक टॉक बैन पर उनकी राय जाननी चाही। इस पर उन्होंने कहा, 'टिक टॉक एंटरटेनमेंट ऐप है। यह बिना सोचे समझे और जल्दबाजी में लिया गया फैसला है। इसके लिए क्या प्लान तैयार किया गया है? बैन के बाद जो लोग बेरोजगार होंगे, उनके बारे में क्या सोचा गया है? लोगों को वही तकलीफ होगी जो नोटबंदी के वक्त हुई थी।




बता दे, लद्दाख सीमा पर भारत-चीन की सेनाओं के बीच जारी तनाव के बीच सोमवार को केंद्र सरकार ने चीन की 59 ऐप्स को भारत में बैन करने का आदेश जारी किया था। सरकार ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के सेक्शन 69 A के तहत इन चीनी ऐप्स को बैन किया है। सरकार के मुताबिक, ये ऐप्स जिन गतिविधियों में शामिल हैं, उनसे भारत की सुरक्षा, सम्प्रभुता और एकता को खतरा है। पिछले कुछ दिनों से 130 करोड़ भारतीयों की प्राइवेसी और डेटा की सुरक्षा को लेकर चिंताएं जाहिर की जा रही थीं।

Post a Comment

0 Comments