About Me

header ads

जामुन खाने के फायदे जानकर आप हो जाओगे हैरान

जामुन एक अद्भुत गर्मियों का फल है। चाट मसाला के साथ खाने पर इसका स्वाद और भी स्वादिष्ट हो जाता है। गर्मियों में पैदा होने वाला फल जितना पौष्टिक होता है, उतना ही औषधीय गुणों से भी भरपूर होता है। जामुन खाने से पाचन में सुधार होता है और पेट दर्द से राहत मिलती है। जिन लोगों को मूत्र को नियंत्रित करने में कठिनाई होती है, उनके लिए जामुन फायदेमंद है। डॉ। लक्ष्मीदत्त शुक्ल के अनुसार, केवल जामुन के फल ही नहीं बल्कि इसकी गुठली और पत्तियां भी बहुत फायदेमंद होती हैं। आइए जानते हैं जामुन के खास गुणों और इसे खाने के फायदों के बारे में जामुन में फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं, जो शरीर में मौजूद बैक्टीरिया और संक्रमण से लड़ने में मदद करते हैं। इसके अलावा जामुन में विटामिन सी भी भरपूर होता है, जिसकी वजह से रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है।


 वजन घटाने में सहायक
 जामुन में कैलोरी की मात्रा नगण्य होती है और फाइबर अधिक होता है, जो पाचन तंत्र को ठीक करने में मदद करता है। जामुन में फाइबर की मौजूदगी के कारण, इसे खाने से व्यक्ति भरा-भरा महसूस करता है। इससे व्यक्ति को लंबे समय तक भूख नहीं लगती है। इसका सीधा असर शरीर की चर्बी पर पड़ता है। अगर कोई व्यक्ति ज्यादा खाना नहीं खाता है तो शरीर में जमा अतिरिक्त चर्बी जलने लगती है, जिसके कारण मोटापा कम होने लगता है  लक्ष्मीदत्त शुक्ला के अनुसार, जामुन खाने से ब्लड शुगर लेवल भी नहीं बढ़ता है, इसलिए जामुन के सेवन से डायबिटीज भी संतुलित रहता है। अधिकांश पोषण विशेषज्ञ फाइबर से भरपूर खाद्य पदार्थ खाने की सलाह देते हैं। जामुन को इनमें से एक माना जा सकता है। जामुन शरीर के चयापचय को बढ़ाने में मदद करता है। एक्सरसाइज के बाद फलों में जामुन खाना ज्यादा फायदेमंद होता है, क्योंकि एक्सरसाइज करने के तुरंत बाद तेज भूख लगने लगती है।


 विष को दूर करने में सहायक
 जामुन में मौजूद विटामिन ए और सी शरीर को डिटॉक्सीफाई करते हैं। जामुन ठंडे होते हैं, इसलिए यह पेट में ठंडक बनाए रखता है। डायरिया की समस्या में भी जामुन बहुत फायदेमंद है। बवासीर के रोगियों को भी जामुन खाने की सलाह दी जाती है क्योंकि उन्हें पाचन के कारण होने वाली परेशानी से जल्दी राहत मिलती है  मानसून के मौसम में मौसमी फलों का सेवन करना चाहिए, ताकि शरीर की प्रतिरोधक क्षमता मजबूत बनी रहे, क्योंकि मानसून के दौरान प्रतिरक्षा कमजोर हो जाती है। जामुन केवल गर्मियों और मानसून के मौसम के दौरान आते हैं। यह आश्चर्य की बात है कि शरीर को स्वस्थ रखने के लिए प्रकृति स्वयं हमें समय पर ऐसे फल उपलब्ध कराती है। ऐसे में अगर हम जामुन का उचित सेवन करते हैं, तो हम आने वाले सीजन के लिए अपनी प्रतिरक्षा तैयार कर सकते हैं और स्वस्थ रह सकते हैं।

Post a Comment

0 Comments