ये है भूतो के लिए मनाए जाने वाला पर्व,जानकर आप हो जायेंगे हैरान

पश्चिमी देशों में हैलोवीन का त्यौहार ऐसा मौक़ा होता है, जब भूत-प्रेत और अजीबो-ग़रीब तरह की चीज़ों की नुमाइश होती है। ये वो मौक़ा होता है, जो मर चुके लोगों के धरती पर वापस आने जैसा माहौल देता है।
पर, क्या हम भूतों से ज़िंदगी के कुछ अहम सबक़ भी सीख सकते हैं?
चलिए, इस सवाल का जवाब तलाशते हैं।
आज के हैलोवीन त्यौहार की बुनियाद में सेल्टिक परंपरा का पर्व समहैन था। ईसा से बहुत पहले के भूमध्य सागर और यूरोप में रहने वाले लोग सेल्टिक ज़बानें बोलते थे। उनका यक़ीन भूतो और देवताओं में हुआ करता था। ये लोग समहैन त्यौहार इसलिए मनाते थे क्योंकि उनका मानना था कि साल के इस समय में इस दुनिया और उस दुनिया का फ़र्क़ मिट जाता हैं। इंसान और प्रेत एक साथ धरती पर आबाद रहते हैं।


सातवीं ईस्वी में जब पोप ग्रेगरी, लोगों को ईसाई बनाने की मुहिम में जुटे थे, तो उन्होंने अपने प्रचारकों से अपील की कि वो पगन यानी बुतपरस्ती की परंपरा वाले लोगों की परंपराओं का विरोध न करें बल्कि उनके त्यौहारों का ईसाईकरण कर दें।
तभी से समहैन त्यौहार ऑल सेंट्स डे बन गया। इस त्यौहार में मर चुके लोगों की आत्माओं से संवाद अच्छा माना जाने लगा। ऑल सेंट्स डे को ऑल हैलौज़ डे भी कहते थे। इससे पहले की रात को हैलोज़ इवनिंग यानी हैलोवीन कहा जाने लगा।
चर्च की शुरुआती परंपराओं में बुतपरस्तों यानी पगन परंपरा की अहम बुनियाद आत्माओं से संवाद भी शामिल हो गया।

भूतों पर ये यक़ीन, प्राचीन कालीन यूरोप में चर्च के लिए बहुत फ़ायदे का सौदा साबित हुआ। पोप ग्रेगरी लोगों से कहा करते थे कि जो लोग भूत देखें, वो उनके लिए दुआएं पढ़ें। क्योंकि जो लोग मर चुके हैं, उन्हें दूसरी दुनिया यानी जन्नत के सफ़र के लिए ऐसी दुआओं की ज़रूरत होती है।


मध्यकाल में भूत-प्रेत और आत्माओं का ये यक़ीन चर्च के लिए कारोबार बन गया। चर्च के पादरी लोगों से पाप की माफ़ी के बदले में मोटी रक़म वसूलने लगे। भूतों पर भरोसा चर्च के लिए कमाई का ज़रिया बन गया, तो आम जनता इस 'भूत टैक्स' से बेहाल होने लगी।

Post a Comment

0 Comments