About Me

header ads

परफ्यूम लगाना हो सकता है खतरनाक ,इन बातों का रखे खाश ध्यान

परफ्यूम, आज के समय में हर रोज प्रयोग की जाने वाली एक अहम चीज बन गई है। खुशबू जो लोगों को अपना बना लेती है व हर किसी को अच्छी लगती है। अच्छी खुशबू के लिए तरह- तरह के परफ्यूम का इस्तेमाल किया जाता है। एक अच्छे परफ्यूम की खुशबू सबके दिल को अपनी और आकर्षित कर लेती है। ,लेकिन इसमें मिलाए जाने वाले केमिकल्स हमारे शरीर पर खतरनाक प्रभाव डाल सकते है हर रोज त्वचा पर डियो या परफ्यूम का इस्तेमाल करना हमारी त्वचा की सेहत के लिए घातक भी हो सकता है। ट्राइक्लोसन रसायनिक तत्व का उपयोग डियोड्रेंट्स या परफ्यूम को एंटीबैक्टीरियल युक्त बनाने के लिए उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग कई तरह के एंटीबैक्टीरियलयुक्त साबुनों को बनाने में भी किया जाता है।


 टेट्राक्लोरोहाइड्रेक्स एल्यूमिनियम जिरकोनियम एल्यूमिनियम क्लोरोहाईड्रेट परफ्यूम में मिले ये रसायनिक तत्व शरीर को बहुत ही ज्यादा नुकसान पहुंचाते है। एल्यूमिनियम जिसके वर्तन में खाना बनाने जहर का काम करता है उसमे भी यही तत्व पाए जाते हैं डियोडरेंट या परफ्यूम में मौजूद केमिकल आपको अल्जाइमर दे सकते हैं। इसके अलावा सांस संबंधी समस्याएं पैदा करने में यह केमिकल सहायक साबित होते हैं। अत्यधिक तेज गंध होने की वजह से ये नाक के तंतुओं को भी क्षतिग्रस्त कर सकते हैं जिससे आपको सांस संबंधी तकलीफें हो सकती है प्रतिदिन इस्तेमाल किए जाने वाले परफ्यूम में कई तरह के 


केमिकल मौजूद होते हैं जिससे स्किन संबंधित कई तरह की गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। सिलिका अथवा ‘सिलिकॉन डाईऑक्साइड’ सिलिकन और ऑक्सीजन से मिलकर बना होता है। सिलिका के साथ इसमें मिलाया जाने वाला टेल्क केमिकल्स शरीर में कैंसर के फैलाने का काम करता है।
प्रॉपिलीन गलायसोल यह शरीर में एलर्जी फैलाने वाला एक रसायनिक तत्व है जो परफ्यूम में मिलकर हमारे शरीर में रिएक्शन पैदा करता है और किडनी को डैमेज करने का कारण बनता है।

Post a Comment

0 Comments