About Me

header ads

सतड़ियो के मौसम में हम क्यों कापते है ज्यादा जानिए इसकी वजह

दोस्तों जब हमें ठंडी लगती है तब हम क्यों कापते हैं ? इसका  कारण है | ज्यादा ठंडी लगने पर हम इसलिए कापते हैं ताकि हमारे शरीर का टेंपरेचर मेंटेन रहे | कापने से हमारे शरीर से एनर्जी  निकलती  है | जो हमारे शरीर को गर्म रखने में सहायता करती है | जितना हम ज्यादा कापेगे उतना ही हमें कम ठंडी लगेगी | इसलिए जो लोग ठंडी में कापते हैं | वैसे तो सभी लोग ठंडी में कांपते हैं | लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि उसे ठंडी लग रही है | इसका मतलब यह होता है कि वह अपने शरीर को गर्म रखने में सहायता कर रहा है | हमारे शरीर का तापमान मेंटेन करने में हमारे कान का भी बहुत बड़ा योगदान है | क्योंकि जब 


हमें ठंडी लगती है और हम अपना कान ढक लेते हैं तो मानो की आधि ठंडी गायब हो जाती है ऐसा एहसास होता है | इसका एक और बहुत अच्छा उदाहरण है जैसे कि आप  उत्तरी क्षेत्र के रहने वाले भालुओ को ही देख लीजिए उनके कान छोटे होते हैं यह इसलिए होता है क्योंकि वहां पर बहुत ही ज्यादा ठंडी पड़ती है 


 उत्तरी क्षेत्र में रहने वाले महिलाओं के गाल हल्के गुलाबी होते हैं यह सब ठंडी को बर्दाश्त करने के लिए शरीर अपने आप को मेंटेन करती है | हम लोगों का शरीर पर एक वरदान है  | जो मौसम के हिसाब सेेेेे  अपने आप को बदलते रहता है | 
दोस्तों यह पोस्ट आपको अच्छी लगी तो फॉलो लाइक  और शेयर का जरूर करें |

Post a Comment

0 Comments