About Me

header ads

ये है दुनिया के ज्यादा खतरनाक जंगल ,देखकर चौक जाओगे

दुनिया में कई रहस्यमयी जगहें हैं जिनके रहस्य आज तक सामने नहीं आए हैं। उसी समय, दक्षिण-पश्चिमी पेरू में, जहां एंडीज़ और अमेज़ॅन बेसिन मिलते हैं, वहां मनु नेशनल पार्क है। 1.5 मिलियन हेक्टेयर में फैले इस पार्क को पृथ्वी पर सबसे अधिक जैव विविधता संपन्न स्थानों में से एक माना जाता है। इस पर धुंध की चादर लपेटी गई है और यहां लोगों की आवाजाही कम है। नदियों को पार करके, जगुआर और प्यूमा से बचते हुए, जब आप वर्षा वन के घने जंगल में पहुंचते हैं, तो आप सिनकोना ऑफिसिनैलिस की शेष प्रजातियों में से कुछ देख पाएंगे।


 बता दें कि जो लोग इन पेड़ों को नहीं जानते हैं, उनके लिए वर्षावन के घने भूलभुलैया में 15 मीटर लंबे सिनकोना पेड़ों की पहचान करना मुश्किल हो सकता है। एंडीज की तलहटी में बढ़ते हुए, इस पेड़ ने कई मिथकों को जन्म दिया और सदियों से मानव इतिहास को प्रभावित किया। पेरू के अमेजन क्षेत्र के मैड्रे डी डिओस में पली-बढ़ी नताली कैनाल्स कहती हैं, "जबकि कई लोग इस पेड़ को नहीं जानते होंगे, लेकिन इससे निकाली गई एक दवा ने मानव इतिहास में लाखों लोगों की जान बचाई है।" 'नहरें वर्तमान में डेनमार्क में प्राकृतिक इतिहास संग्रहालय में एक जीवविज्ञानी हैं, जो सिनकोना के आनुवंशिक इतिहास की जांच कर रहे हैं। क्विनिन इस दुर्लभ पेड़ की छाल से बनी पहली मलेरिया दवा थी।


 दरअसल, सैकड़ों साल पहले जब कुनैन की खोज हुई थी, तो दुनिया में उत्साह और संदेह दोनों का स्वागत किया गया था। हाल ही में इस दवा पर फिर से एक बहस हुई है। कुनैन - क्लोरोक्वीन और हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन के सिंथेटिक संस्करणों को के संभावित उपचार के रूप में वर्णित किया गया है, जिस पर बहुत बहस हुई है। मच्छरों के परजीवी के कारण होने वाली मलेरिया बीमारी सदियों से इंसानों को परेशान कर रही है। इसने रोमन साम्राज्य को नष्ट कर दिया और 20 वीं शताब्दी में 15 से 30 मिलियन लोग मलेरिया से मर गए। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, दुनिया की आधी आबादी अभी भी उन क्षेत्रों में रहती है जहां यह बीमारी संक्रमित है।

Post a Comment

0 Comments