About Me

header ads

शायद आप नही जानते होंगे महेंद्र सिंह धोनी की ये कुछ ख़ास बातें

अपने माहि भाई मतलब की हमारे अपने चहेते महेंद्र सिंह धोनी के लाखों करोड़ों फैन हैं. महेन्द्र सिंह धोनी के इतने सारे फैन ऐसे ही नहीं हो गयें हैं. उनके अंदर बहुत सारी खूबियाँ और खासियतें हैं जो उन्हें औरों से अलग बनाती है. और सफलता के शिखर तक लेकर गयी है आज भी उनके लाखों फैन यह चाहतें हैं की उनके अपने माहि भाई फिर से मैदान पर उतरें. फिर से खेलें. चौके छक्के मारे.उनके हेलिकॉप्टर शॉट को देखने के लिए तो लोग दीवाने हुए जातें हैं तो उनके फैन का इंतज़ार ख़त्म होने ही वाला है.बहुत जल्द महेन्द्र सिंह धोनी फिर से मैदान पर उतरेंगे और चौके छक्के लगायेंगे. इस संबंद्ध में पोस्ट मैंने लिख दिया है.आप निचे जाकर देख सकतें हैं.



तो आज हम बात करेंगे की महेन्द्र सिंह धोनी की कुछ ख़ास खूबियों के बारे में जो उन्हें सबसे अलग बनाती है.महेन्द्र सिंह धोनी यानी अपने माहि भाई की सबसे बड़ी खूबी है उनका प्रजेंस ऑफ़ माइंड. मतलब तुरंत निर्णय लेने की क्षमता. महेन्द्र सिंह धोनी की यह सबसे बड़ी खूबी ही उन्हें सबसे अलग बनाती है. सबसे ख़ास, जो उन्हें सफलता की ओर ले गयी है.
धोनी अपने आस पास होने वाली सभी घटनाक्रम पर नजर रखतें हैं. उन्हें परिस्थिति को अच्छी तरह से भांपना आता है. वे परिस्थिति को देखकर तुरंत और सटीक निर्णय ले सकतें हैं


आपने देखा होगा की जब वे डी आर एस लेतें हैं तो कितनी जल्दी ले लेते हैं और उनके अधिकतर निर्णय टीम के पक्ष में ही जातें हैं. ट्वेंटी ट्वेंटी वर्ल्ड कप के फाइनल में जब उन्होंने इंडिया को पहला वर्ल्ड कप दिलाया था,में भी उनकी इसी क्षमता ने काम किया था. उन्होंने उस समय की परिस्थिति के हिसाब से सटीक निर्णय लिया था इस तरह के अनेकों उदाहरण हैं जो उनकी इस खूबी को शाबीत करतें हैं.
उनकी दूसरी खूबी है उनका सरल होना.वे बहुत सरल हैं, वे चीजों को सरलता से लेतें हैं.वे किसी भी परिस्थिति में घबराते नहीं है उनकी तीसरी खूबी है उनका कूल माइंड.वे अपने दिमाग को हमेशा ठंडा रखतें हैं.इससे वे परिस्थिति का अच्छी तरह से अनुमान लगा सकतें हैं उनकी एक और बड़ी खूबी है जिसने धोनी को आज इस मुकाम तक पहुँचाया है. वह है उनका अपने लक्ष्य की तरफ एकाग्र और जुनूनी होना. नहीं तो वे अपने रेलवे की नौकरी में ही खुश होते. पर उन्होंने अपनी नौकरी को छोड़कर अपने लक्ष्य की तरफ ध्यान दिया,और उसे हासिल करने के लिए जूनून की हद तक गए.जिसके कारण आज वे भारत के सबसे सफल कप्तानों में गिने जातें हैं.

Post a Comment

0 Comments