About Me

header ads

इन खिलाड़ियों के लिए 2020 मैच रहा बेकार ,जाने इसकी वजह

आईपीएल लीग में देश-विदेशों के खिलाड़ी पसीना बहाते हैं। ताकि इसमें अच्छा प्रदर्शन कर ना सिर्फ दुनिया में नाम कमाया जाए लेकिन कुछ खिलाड़ियों के लिए यह लीग खराब साबित हुई। कईयों को माैका नहीं मिला को कई इसका फायदा उठाने में पूरी तरह से असमर्थ दिखे काफी खिलाडी रहे आईपीएल से बाहर। यह टीम सबसे पॉवरफुल टीम मणि जाती है. चेन्नई सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भरोसा जताते हुए अपनी टीम में शामिल किया था। धोनी आईपीएल 2012 के लिए बाबा को फेरवेट खिलाड़ी मानते थे अंडर 19 विश्व कप के कारण सुर्खियां बटोरी थीं। आईपीएल 2012 में भारतीय टीम का हिस्सा थे। उन्होंने भारत के चैंपियन बनने में अहम भूमिका निभाते हुए 171 रन बनाए थे और 5 विकेट लिए थे। 


क्वार्टरफाइनल में पाकिस्तान और सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ वह मैन ऑफ द मैच रहे थे। विश्व कप से कुछ महीने पहले ही उन्होंने 17 साल की उम्र में तमिलनाडु के लिए प्रथम श्रेणी में पदार्पण किया था। इसलिए काफी निराश है
यह बेन कटिंग खिलाडी काफी अच्छा प्रदर्शन देता है आईपीएल में जिस दूसरे खिलाड़ी की किस्मत सबसे खराब रही वो हैं आस्ट्रेलिया के बेन कटिंग। कुल 21 मैच खेले जिसमें कुल 238 रन ही उनके बल्ले से निकले। कटिंग ने 2014 में राजस्थान रॉयल्स के लिए अपना आईपीएल डेब्यू किया लेकिन उस सीजन में वह सिर्फ 1 ही मैच थे सके। 2016 और 2017 में, वह सनराइजर्स हैदराबाद का हिस्सा थे। लेकिन इस दाैरान भी वह 4-4 मैच खेल सके, जिसमें फ्लाॅप साबित हुए। पर बेन कटिंग जब भी क्रीज़ पर आता है मैच जीतकर जाता है



नाथू सिंह मुंबई इंडियंस के सबसे चहेते खिलाडी है मुंबई इंडियंस ने 2016 में आईपीएल नीलामी में आश्चर्यजनक रूप से 3.2 करोड़ रुपए खर्च किए थे। सीजन में उन्होंने गुजरात लायंस के लिए खेलते हुए आईपीएल की शुरुआत की। गुजरात ने उन्हें 2 मैच खेलने को दिए। उन्होंने दो मैचों में चार ओवर फेंके और सिर्फ 15 रन दिए और एक विकेट लिया। नाथू को काफी कम कीमत मे आईपीएल मे बोली लगा कर खरीदा है
यह इयोन मॉर्गन रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के काफी अच्छे और शानदार बॉलर है. इंग्लैंड के इयोन मोर्गन के लिए आईपीएल खेलना सही नहीं बैठा। इयोन मोर्गन खिलाड़ी 52 मैचों में सिर्फ 854 रन ही बना सका है। आईपीएल 2010 में 6 लाख में खरीदा था। हालांकि, वह उस सीजन में सिर्फ छह मैचों में खेले थे, जिसमें निकले सिर्फ 35 रन काफी खास रहा था उनके लिए साल 2010 उनकी बोली सबसे ज्यादा थी। 

Post a Comment

0 Comments