लॉकडाउन के बाद ऋषभ पंत के लिए टीम से आई अच्छी खबर ,जानिए

कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन से पहले टीम इंडिया ने न्यूज़ीलैंड के खिलाफ सीरीज़ खेली थी. उस सीरीज़ में खराब फॉर्म की वजह से ऋषभ पंत पर केएल राहुल को तरजीह दी गई थी. अब एक बार फिर से क्रिकेट अपने मैदान की तरफ लौट रहा है. ऐसे में टीम इंडिया के बैटिंग कोच विक्रम राठौड़ का ऋषभ पंत पर बयान आया है. कोच ने कहा है कि पंत एक खास किस्म के खिलाड़ी हैं, इस वजह से ही टीम लगातार उन्हें सपोर्ट कर रही है.


किसी खिलाड़ी के लिए टीम मैनेजमेंट की तरफ से ऐसा बयान बेहद खास होता है. वो भी ऐसे वक्त में, जब उसके भविष्य को लेकर चीज़ें साफ न हों. साल 2018 में एमएस धोनी के क्रिकेट में भविष्य को ध्यान रखते हुए चयनकर्ताओं ने ऋषभ पंत को टीम में मौका दिया था. ऋषभ पंत की तेज़-तर्रार बल्लेबाज़ी की वजह से ऐसी उम्मीदें जताई गई हैं कि वो धोनी की जगह को भरे सकते हैं. हालांकि वो अब तक न तो बल्ले से और न ही विकेट के पीछे धोनी जैसा कमाल दिखा पाए हैं.
अपने शुरुआत दिनों में उन्होंने इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ पंत ने अच्छा प्रदर्शन किया था. लेकिन 2019 में लगातार फ्लॉप प्रदर्शन के बाद उन पर सवाल उठने लगे. अब विक्रम राठौड़ ने एक इंटरव्यू में कहा है


”उनका पिछला साल बहुत खास नहीं रहा. उन्होंने अब तक इंटरनेशनल क्रिकेट में बहुत कुछ खास अचीव भी नहीं किया है. लेकिन फिर भी टीम की तरफ से उन्हें पूरा सपोर्ट किया जा रहा है. वो एक खास किस्म के खिलाड़ी हैं. एक बार जब वो रन बनाने शुरू करेंगे, तो वो भारतीय क्रिकेट के लिए
इसके अलावा उन्होंने एमएस धोनी पर भी बात की. विक्रम ने कहा,
”एमएस धोनी अब भी हमारी सोच में हैं. हमें नहीं पता उनके साथ क्या हो रहा है. लेकिन उनके जैसे खिलाड़ी की जगह भर पाना बहुत मुश्किल होता है, खासकर जब वर्ल्ड क्रिकेट में उनका कद इतना बड़ा है. पंत अब तक कई बार फ्लॉप हुए हैं, ऐसे में उन पर प्रदर्शन का दबाव है. लेकिन ऐसी चीज़ें किसी खिलाड़ी को मजबूत और बेहतर ही बनाती हैं.”
उन्होंने पंत की फिटनेस और मेहनत की भी तारीफ की. विक्रम ने कहा,
”वो शारीरिक रूप से काफी मेहनत कर रहा है. वो कड़ी ट्रेनिंग और प्रेक्टिस भी कर रहा है. इसमें कोई शक नहीं है कि अगर हम उसका सपोर्ट करते रहे, तो वो टीम इंडिया के लिए एक मैच विनर बनकर उभरेगा.”
ऋषभ पंत ने टीम इंडिया के लिए अब तक कुल 13 टेस्ट, 16 वनडे और 28 टी20 मुकाबले खेले हैं. इन सभी मैचों में उन्होंने कुल 1500 से ज़्यादा रन बनाए हैं.

Post a Comment

0 Comments