About Me

header ads

स्त्री के इस अंग को छूना माना जाता है शुभ ,जानिए इस बारे में

स्त्री की इज्ज़त धर्म या उसका पद देखकर नहीं की जाती है. चाहे वो स्त्री आपकी माँ, बहन,दोस्त ,बेटी या आपकी पत्नी ही क्यों ना हो, वह हमेशा पूजनीय है. क्योकि शायद भारत ही एक मात्र एक ऐसा देश है जहाँ स्त्री बुरखे में हो या फिर घूँघट, उसने कपड़े कैसे भी क्यों ना पहने हुए हो फिर भी वो देवी की तरह ही पूजनीय ही मानी जाती है. और यही सत्य है क्योकि जब से इस धरती पर मानव रूप में स्त्री और पुरुष का जन्म हुआ है. तभी से स्त्रियों को देवी की तरह पूजा गया है. इसका एक कारण यह भी है की स्त्री ही नये जीवन को इस संसार में लाती है. अगर इस संसार में स्त्रियाँ ही नहीं होगी तो संसार में नए मानव जीव जन्म ही नहीं लेंगे और बचे हुए मनुष्य भी कुछ ही समय में खत्म हो जायेंगे|


आज हम आपको इस लेख में बताएँगे की स्त्री के किस अंग को छूना शुभ माना जाता है. वैसे तो स्त्रियाँ देवी का ही रूप मानी जाती है. लेकिन फिर भी उनके इस अंग को छूने से पहले उनकी उम्र भी देखनी पड़ती है. अगर स्त्री आपसे उम्र से छोटी है तो उसके सिर पर हाथ रख कर 'खुश रहो' कहना शुभ माना जाता है. अगर वह स्त्री आपकी माँ या आपकी बड़ी बहन है तो उनके चरण स्पर्श करके आशीर्वाद लेना शुभ माना गया है. अगर वह स्त्री आपकी पत्नी है तो उसको बाहों में लेकर प्रेम से कहे गये शब्द भी शुभ माने गये है. अगर वह स्त्री आपकी दोस्त है तो उसके हाथो को चूमना भी शुभ माना जाता है. अगर आप भी एक स्त्री हो और दूसरी स्त्री को प्रेम से गले मिलते हो तो उसको भी शुभ माना जाता है|


वास्तव में स्त्री ही संसार का निर्माण करती है. चाहे फिर वो नए जीवन को संसार में लाना हो या फिर अपने परिवार का सुरक्षा कवच बनना हो. स्त्री सदेव ही पूजनीय है. संसार इस बात का साक्षी है की जिस परिवार में स्त्री की इज्ज़त नहीं की जाती, उसका शोषण किया जाता है, वह परिवार कभी भी खुश नहीं रहता है|

Post a Comment

0 Comments