इन खिलाड़ियों को मिल सकता है मौका ,ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए 5 संभावित रिजर्व खिलाड़ी,जानिए

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने भारतीय टीम के ऑस्‍ट्रेलिया दौरे के पूरे कार्यक्रम की घोषणा कर दी है. इस दौरे पर चार टेस्ट, तीन वनडे और तीन टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेले जाएंगे. भारत के ऑस्ट्रेलिया दौरे में पहले टी-20 सीरीज खेली जाएगी, उसके बाद टेस्ट सीरीज खेली जाएगी और अंत में वनडे सीरीज खेली जाएगी.
पहला टी20 : 11 अक्टूबर, ब्रिसबेन
दूसरा टी20 : 14 अक्टूबर, कैनबरा
तीसरा टी-20 : 17 अक्टूबर, एडीलेड

टेस्ट सीरीज

पहला टेस्ट : तीन से सात दिसंबर, ब्रिसबेन
दूसरा टेस्ट : 11 से 15 दिसंबर, एडीलेड (डेेेे-नाइट)
तीसरा टेस्ट : 26 से 30 दिसंबर, एमसीजी
चौथा टेस्ट : तीन से सात जनवरी, एससीजी

वनडे सीरीज

पहला वनडे : 12 जनवरी, पर्थ
दूसरा वनडे : 15 जनवरी, एमसीजी
तीसरा वनडे : 17 जनवरी, एससीजी


कोरोना वायरस की इस महामारी को देखते हुए बीसीसीआई निश्चित रूप से कुछ रिजर्व खिलाड़ी भी ऑस्ट्रेलिया भेज सकता है. 18 खिलाड़ी, तो भारत की ऑस्ट्रेलिया दौरे की मुख्य टीम में हो सकते हैं, क्योंकि भारत की पिछले ऑस्ट्रेलिया दौरे की टीम में भी कुल 18 खिलाड़ियों को जगह दी गई थी.
5 खिलाड़ी ऐसे हो सकते हैं, जिन्हें बीसीसीआई रिजर्व खिलाड़ी के तौर पर ऑस्ट्रेलिया भेज सकता है और वह टीम के साथ अभ्यास भी करेंगे और किसी खिलाड़ी के चोटिल होने पर व जरुरत पड़ने पर मुख्य टीम का हिस्सा बन जाएंगे.

वेस्टइंडीज दौरे में खराब प्रदर्शन के बाद केएल राहुल को टेस्ट टीम से बाहर कर दिया गया था. हालांकि वनडे और टी-20 में बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज उनके लगातार अच्छे प्रदर्शन के बाद कुछ क्रिकेट प्रशंसक उन्हें टेस्ट टीम में भी वापस मौका देने की बात कह रहे हैं केएल राहुल का वनडे और टी-20 फॉर्म शानदार चल रहा है.

ऐसे में भारतीय टीम के चयनकर्ता मुख्य टेस्ट टीम में 3 ओपनर बल्लेबाज रोहित शर्मा, मयंक अग्रवाल औ पृथ्वी शॉ को लेकर जा सकते हैं और वहीं रिजर्व ओपनर बल्लेबाज के तौर पर फॉर्म में चल रहे केएल राहुल को मौका दे सकते हैं


करुण नायर भारत की टीम के साथ साल 2018 के इंग्लैंड दौरे पर गये थे, लेकिन कप्तान विराट कोहली ने उन्हें प्लेइंग इलेवन में एक भी मौका नहीं दिया था.
तब से भारतीय टीम के चयनकर्ताओं ने उन्हें टीम में जगह नहीं दी है, जो कही ना कही करुण नायर के साथ नाइंसाफी हैं. बता दें, कि करुण नायर, वीरेंद्र सहवाग के बाद दूसरे ऐसे खिलाड़ी हैं. जिन्होंने भारत के लिए तिहरा शतक लगाया हैं.
वह इंग्लैंड के खिलाफ 2016 में तिहरा शतक लगा चुके हैं, लेकिन फिलहाल वह टीम में जगह बनाने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. हालांकि ऑस्ट्रेलिया दौरे में चयनकर्ता उन्हें रिजर्व मध्यक्रम के बल्लेबाज के तौर पर रख सकते हैं.


विजय शंकर को भी ऑलराउंडर के तौर पर वैकल्पिक खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल किया जा सकता है. वह टीम के लिए ऑलराउंडर की भूमिका निभा सकते हैं.

वह गेंदबाजी के साथ-साथ अपनी बल्लेबाजी और फील्डिंग से भी टीम के लिए योगदान दे सकते हैं. उन्होंने भारतीय टीम के लिए अबतक 12 वनडे और 9 टी-20 मैच खेले हुए हैं.
उन्होंने अपने खेले 12 वनडे मैचों में 31.9 की औसत से 223 रन बनाये हुए हैं. वहीं 2 विकेट हासिल किये हुए हैं. वहीं उन्होंने अपने खेले 9 टी-20 मैचों में 101 रन बनाये हुए हैं और 5 विकेट हासिल किये हुए हैं.

भारत और साउथ अफ्रीका के बीच साल 2019 में तीन मैचों की टेस्ट सीरीज का तीसरा और अंतिम टेस्ट मैच रांची क्रिकेट स्टेडियम में खेला जाना था. इस मैच से पहले भारतीय टीम के दल में शामिल युवा स्पिनर कुलदीप यादव चोटिल हो गए थे, इसलिए भारतीय टीम ने बैक-अप के रूप में झारखंड के लोकल खिलाड़ी शाहबाज नदीम को अपने दल में शामिल कर लिया था.

शाहबाज नदीम ने भी उस मैच में अच्छी गेंदबाजी की थी, लेकिन उनकी शानदार गेंदबाजी के बावजूद उन्हें बांग्लादेश के खिलाफ टेस्ट सीरीज में जगह नहीं दी गई थी.
ऑस्ट्रेलिया दौरे की मुख्य टीम में भी उन्हें जगह मिलना मुश्किल लग रहा है. हालांकि, ऑस्ट्रेलिया दौरे के रिजर्व खिलाड़ियों में उन्हें बतौर स्पिनर जरुर शामिल किया जा सकता है.

नवदीप सैनी ने साल 2017-18 के रणजी सीजन में कुल 34 विकेट लिए थे और वह दिल्ली के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे. उनकी शानदार गेंदबाजी की बदौलत दिल्ली ने उस रणजी सीजन फाइनल तक जगह बनाई थी.

नवदीप अबतक 31 प्रथम श्रेणी मैच खेल चुके है. जिसमे उन्होंने 25.04 की शानदार औसत से 96 विकेट लिए हुए है. यह खिलाड़ी भी भारत के तेज गेंदबाजी आक्रमण में बतौर रिजर्व खिलाड़ी रह सकता है.  

Post a Comment

0 Comments